मां के साथ सो रही 7 वर्षीय बालिका के साथ तीन युवकों ने किया दुष्कर्म, लहूलुहान अवस्था में छोड़कर मौके से हुए फरार


मुकेश शर्मा (संवाददाता) ब्यावर/अजमेर—शहर के उदयपुर रोड स्थित सेन सर्किल के पास निवास करने वाले एक खानाबदोश परिवार की 7 वर्षीय अबोध बालिका का अपहरण कर तीन युवकों द्वारा दुष्कर्म करने का मामला सामने आया है। घटना के समय अबोध बालिका अपनी मां के साथ सो रही थी। उधर उक्त घिनौनी हरकत के सामने आने के बाद प्रशासन में हड़कम्प मचा हुआ है। प्रशासन के सारे आला अधिकारी आरोपियों की तलाश में जुटे हुए है। पुलिस प्रशासन घटनास्थल के आसपास के सारे सीसीटीवी फुटैज खंगाल रही है। उधर अजमेर से ब्यावर पहुंची एफएसएल की टीम ने भी मौके पर पहुंचकर वहां से सबूत एकत्रित किए है।

बता दें कि घायल हुई बच्ची का राजकीय अमृतकौर चिकित्सालय में उपचार किया जा रहा है। डिप्टी हीरालाल सैनी तथा उपखंड अधिकारी जेएस संधू ने पुलिस के साथ घटनास्थल का मौका-मुआयना किया है। पुलिस आरोपियों की तलाश में जगह-जगह छापे मारकर कार्यवाहीं कर रही है। जानकारी के अनुसार उदयपुर रोड कृषि मंडी चौराहे के समीप स्थित सेन सर्किल के आसपास 10-15 खानाबदोश परिवार रहते है। परिवार के सभी लोग झाडू बनाकर अपनी आजिविका चलाते है।

बताया जा रहा है कि गुरुवार रात को एक 7 वर्षीय अबोध बालिका अपनी मां के साथ सो रही थी। रात्रि डेढ़ बजे करीब तीन युवक वहां पर पहुंचते है और मां के साथ सो रही बच्ची को उठाकर ले जाते है। तीनों अपहणकर्ता बच्ची को लेकर सामने ही गिट्टी स्टोर करने के लिए बने यार्ड में पहुंचे है तथा बच्ची के साथ दुष्कर्म की घटना को अंजाम देकर वहां से भाग छूटते है। घटना के करीब आधे घंटे बाद लहूलुहान हालत में बच्ची रोती हुई घर पहुंचती है। बच्ची के रोने की आवाज सुनकर परिवार के सभी लोग जाग जाते है और बच्ची की हालत देखकर उसे उपचार के लिए लेकर राजकीय अमृतकौर चिकित्सालय पहुंचते है। इसके बाद बच्ची के परिजन इसकी शिकायत लेकर सिटी थाने पहुंचे तथा सारे घटनाक्रम से अवगत कराया।

घटना की जानकारी के बाद डिप्टी हीरालाल सैनी तथा उपखंड अधिकारी जसमीतसिंह संधू ने मामले की गंभीरता को देखते हुए तुरंत प्रभाव से अस्पताल पहुंचे तथा सारे घटनाक्रम की जानकारी ली। इसके बाद पुलिस ने घटनास्थल पर पहुंचकर मौका-मुआयना किया तथा आरोपियों की पहचान के लिए आसपास के सीसी टीवी फुटैज खंगालने शुरू किए। उधर एकेएच में पीडि़ता के उपचार के दौरान एसडीएम संधू अस्पताल में ही मौजूद रहे। 

Comments