पश्चिम बंगाल के चिकित्सकों के समर्थन में विरोध पर उतरे चिकित्सक,ओपीडी का बहिष्कार कर निकाला शांति मार्च


मुकेश शर्मा (संवाददाता) ब्यावर/अजमेर—पश्चिम बंगाल में जूनियर डॉक्टर पर हुए हमले के विरोध में देश में शुरू हुआ डॉक्टरों का आंदोलन लगातार तेज होता जा रहा है। इसे लेकर सोमवार को ब्यावर में भी सरकारी तथा नीजी चिकित्सालयों के चिकित्सकों ने ओपीडी का बहिष्कार किया। इस दौरान किसी भी चिकित्सक ने ओपीडी में रोगियों के स्वास्थ्य का परीक्षण नहीं किया। केवल आपातकालानी चिकित्सा सेवाएं जारी रही।

आपातकालीन चिकित्सा सेवा के दौरान भी चिकित्सकों ने हाथ व सिर पर काली पट्टी बांधकर विरोध जताया। सोमवार को ओपीडी की सेवाएं बाधित होने के कारण शहर सहित आसपास के रोगियों को परेशानियों का सामना करना पड़ा। दूर-दराज के गावों से उपचार के लिए पहुंचे मरीजों को बिना उपचार व परामर्श लिए ही वापस लौटना पड़ा।

उधर सोमवार को ईएनटी विभाग के होने वाले ऑपरेशन भी नहीं हुए जिसके चलते जिन रोगियों का आपरेशन था उन्हें कल के लिए इंतजार करना पड़ा। चिकित्सकों का यह बहिष्कार मंगलवार सुबह तक जारी रहेगा। चिकित्सकों के विरोध के दौरान सोमवार को इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के बैनर तले शहर के सभी सरकारी तथा नीजि चिकित्सक  एक शांति मार्च निकालते हुए एसडीएम आफिस पहुंचे।

एसडीएम आफिस पहुंचने के बाद चिकित्सकों ने एसडीएम को सरकार के नाम एक ज्ञापन देकर देशभर में चिकित्सकों पर होने वाले अत्याचारों का विरोध करते हुए आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्यवाहीं की मांग की। साथ ही पश्चिम बंगाल में चिकित्सकों पर हुए हमले की कड़ी निंदा करते हुए चिकित्साकर्मियों के सुरक्षा के लिए तत्काल एक कानून बनाकर उसे शीघ्र ही लागू करने की मांग की।

ज्ञापन देने के दौरान चिकित्सकों ने अपनी मांगों के समर्थन में जमकर नारेबाजी। इस दौरान राजकीय अमृतकौर चिकित्सालय के चिकित्सकों के साथ-साथ शहर के नीजि अस्पतालों के चिकित्सक भी शामिल थे। 

Comments