Skip to main content

बजट मोदी सरकार के पांच वर्ष को रोडमैप एवं देश के विकास को गति देने-शंकर अग्रवाल


जयपुर। सीए शंकर अग्रवाल एवं आर्थिक विशेषज्ञ का कहना है कि एनडीए-2 का पहला बजट सरकार की पांच वर्ष की योजनाओं का बजट है। यद्यपि बजट वार्षिक होता है लेकिन वित्त मंत्री द्वारा प्रस्तुत बजट में प्रत्येक योजनायें चाहे वह किसान विकास की हो, शहरी क्षेत्र की, विद्युत एवं जल अथवा गरीबों को आवास उपलब्ध कराने की, प्रत्येक योजनायें सरकार के आगामी पांच वर्ष की योजनाओं का रोडमैप है। देश को विकास की दिशा में ले जाने वाला कदम है।

आन्तरिक बजट एवं पूर्ण बजट के प्रावधानों पर नजर डाले तो चाणक्य के अर्थशास्त्र का सूत्र स्मरण में आ जाता है। अमीरों पर कर लगाना व गरीब के कल्याण के लिये कार्य करना यही मंत्र इस बजट से निकलकर आता है। सरकार ने बड़े कर दाताओं पर 3 से 7 प्रतिषत तक उपकर लगाया है, साथ ही एक करोड़ से अधिक नकदी बैंक से निकासी पर 2 प्रतिशत टीडीएस लगाया है। वहीं मध्यम वर्ग को 5 लाख तक की आय में छूट के साथ आवास खरीदने पर ऋण लेने पर दो लाख की छूट को बढ़ाकर 3.50 लाख कर आम जनता को राहत देने का प्रयास किया है।

व्यापारी वर्ग अथवा बडी कम्पनियो के लिये 250 करोड़ से बढाकर 400 करोड़ तक की बिक्री तक 25 प्रतिशत कर से 99.3 कम्पनियां इस दायरे में आ जायेगी, जिसका अप्रत्यक्ष लाभ जनता को मिलेगा। छोटे व्यापारी के लिये नई पेंषन योजना एवं ऋण योजना निष्चित ही मध्यम वर्ग के लिये लाभकारी सिद्ध होगी।

सरकारी प्रयासों का एक सफल प्रयास इस बजट में झलकता है कि बैंकों के एनपीए में 1.00 लाख करोड़ की कमी एवं 4.00 लाख करोड़ के कर्ज की वसूली निश्चित ही बैंकों की दशा सुधारने की दिषा में बड़ा कदम है।

लघु उद्योगों को एक करोड़ तक के ऋण एवं ब्याज में छूट के लिए 350 करोड़ का प्रावधान भी लघु उद्योगों कोे राहत देने वाला कदम है। महिला सशक्तिकरण पर भी सरकार ने कुछ सराहनीय कदम उठाये हैं। मोदी सरकार का दृष्टिकोण बड़ा एवं भविष्य निर्माण का आईना है। भारत की अर्थव्यवस्था को 5 ट्रीलियन डाॅलर तक ले जाने को संकल्प इस बात का प्रमाण है।

सरकार ने अपने बजट में सभी वर्गों के लिये कुछ करने व राहत देने का प्रयास किया है। इसके बाद भी बढ़ता विदेषी व्यापार घाटा, राजकोषीय घाटे पर नियंत्रण जीडीपी का 7 प्रतिशत का लक्ष्य हासिल करना, बेरोजगारी, नये उद्योगों की स्थापना, जीएसटी को तर्कसंगत बनाना, किसान की हालत में सुधार आदि चुनौती भरे कदम हैं।

एनडीए सरकार को पहले बजट से आगामी पांच वर्ष तक इन समस्याओं से रूबरू होना पड़ेगा व सरकार किस तरह से इन सब विषयों पर नियंत्रण कर पायेगी, यह आने वाला वक्त ही बतायेगा।

Comments

Popular posts from this blog

DSP का महिला कांस्टेबल के साथ नहाते हुए का अश्लील वीडियो वायरल, DGP ने किया सस्पेंड, DSP ने वीडियो को बताया फेक

राजस्थान पुलिस की वर्दी को शर्मिंदा करने वाला एक वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है। इस वायरल वीडियो में एक पुलिस अफसर, एक महिला कांस्टेबल के साथ स्वीमिंग पूल में नहाते हुये व अश्लील हरकत करते हुये दिखाई दे रहे हैं। लेकिन हैरानी की बात यह है कि स्वीमिंग पूल में एक बच्चा भी साथ में है। डीएसपी बच्चे के सामने ही महिला के साथ अश्लील हरकत करने में मस्त हैं। वीडियो वायरल होते ही डीजीपी एमएल लाठर ने डीएसपी को सस्पेंड करने के आदेश जारी कर दिए हैं। इस संदर्भ में अजमेर आईजी एस. सेंगाथिर का कहना है कि जांच के बाद डीएसपी को सस्पेंड किया गया है। अभी विभागीय जांच जारी है। तो वहीं डीएसपी हीरालाल सैनी का कहना है कि वे महिला को नहीं जानते हैं। वीडियो पूरी तरह से फेक है। इसे एडिट करके वायरल किया जा रहा है। मामले में महिला कांस्टेबल ने भी शिकायत दर्ज करवाई है। शिकायत में बताया कि कोई उनका फेक वीडियो बनाकर ब्लैकमेल कर रहा है। एनएनएच न्यूज इस वायरल वीडियो की पुष्टि नहीं करता है।

विद्याधर नगर थाना पुलिस की बड़ी कार्रवाई : मोबाइल स्नेचिंग व वाहन चोर गैंग का किया खुलासा...

देवेंद्र शर्मा... राजधानी जयपुर जिले की विद्याधर नगर थाना पुलिस ने शुक्रवार को मोबाइल स्नैचिंग व वाहन चोर गैंग का खुलासा किया है। कार्रवाई के दौरान पुलिस टीम ने तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया है और इनके पास से पांच दुपहिया वाहन व मोबाइल भी बरामद किए हैं। पकड़े गए तीनों आरोपियों का नाम शाहरुख उर्फ मोटा, समीर उर्फ चांद और मोहम्मद इस्तखार है। कार्रवाई को लेकर विद्याधर नगर SHO वीरेंद्र कुरील ने बताया कि पकड़े गए आरोपियों के खिलाफ शहर के विभिन्न थानों में प्रकरण दर्ज है। यह आरोपी नशे की लत को पूरा करने के लिए वारदात को अंजाम देते थे, फिलहाल पकड़े गए गैंग के इन तीनों सदस्यों से गहनता से पूछताछ जारी है। आपको बता दें कि विद्याधर नगर SHO वीरेंद्र कुरील के नेतृत्व में उनकी टीम ने इस कार्रवाई को अंजाम दिया है। उक्त कार्रवाई का खुलासा करने में कांस्टेबल गिरधारी लाल की विशेष भूमिका रही है। तो वहीं आरोपियों को गिरफ्तार करने के लिए बनाई गई विशेष  टीम में स.उ.नि. मुकेश कुमार, मदन सिंह, एचसी कैलाश चंद, कांस्टेबल गिरधारीलाल, मुकेश चंद और दीपक कुमार शामिल थे।

कैदी से इश्क कर बैठीं जज,जेल में लगे CCTV कैमरे में 'किस' करते हुये रोमांस कैद,CCTV फुटेज निकाला तो संबंधित अधिकारी हैरान

जेल के अंदर से कैदियों के तमाम कारनामे सामने आते रहते हैं लेकिन अर्जेंटीना की एक जेल से एक ऐसा नजारा सामने आया है जो कल्पना से बिल्कुल अलग हटकर है। ना ही अभी तक किसी ने ऐसा मामला सुना होगा। जो कि जेल में सीसीटीवी कैमरे में एक ऐसा रोमांस कैद हो गया जिसके बारे सोचकर सब हैरान रह गये। बता दें कि जेल में कैद एक हत्या आरोपी कैदी से वहां की जज इश्क फरमाती नजर आईं। इतना ही नहीं उनका एक वीडियो भी वायरल हुआ जिसमें वे कैदी को किस करती नजर आ रही हैं। दरअसल, यह पूरा मामला अर्जेंटीना के दक्षिणी प्रांत स्थित एक जेल का है। डेली मेल की एक ऑनलाइन रिपोर्ट के मुताबिक यहां एक हत्या के केस में क्रिस्टियन बस्टोस अपराधी दोषी साबित हो चुके हैं। उसने अपने साथी की गोली मारकर हत्या कर दी थी। वह कैदी अभी सजा काट रहा है उसे उम्रकैद की सजा सुनाई गई है। इस दौरान मारियल सुआरेज नाम की जज जेल में कैदी से मिलने जाया करती थीं। उन्होंने बताया कि केस की स्टडी के लिए वे उससे मिलने जाती थीं। और इसी बीच जज मारियल सुआरेज को बीते 29 दिसंबर को जेल में उसी कैदी को किस करते हुए देखा गया। सत्यता के लिए सीसीटीवी फुटेज निकाला गया तो स