"शेर-ए-राजस्थान" को गहलोत ने किया याद, पुष्प किये अर्पित


देवेंद्र शर्मा...
जयपुर। प्रदेश के मुखिया अशोक गहलोत आज प्रदेश कांग्रेस कार्यालय पहुंचे जहां उन्होंने राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री स्वर्गीय जयनारायण व्यास को उनकी जयंती पर स्मरण करते हुए विनम्र श्रद्धांजलि दी और उनके चित्र पर पुष्प अर्पित किए। इस दौरान कांग्रेस के कई वरिष्ठ नेताओं और कार्यकर्ताओं ने व्यास को श्रद्धासुमन अर्पित किए।

पुष्पांजलि कार्यक्रम के पश्चात मुख्यमंत्री अशोक गहलोत मीडिया से रूबरू हुए उन्होंने कहा कि स्वर्गीय जय नारायण व्यास हमारे प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष और मुख्यमंत्री भी रहे हैं। स्वर्गीय जय नारायण व्यास को उनके कार्य और स्वभाव के चलते शेर-ए-राजस्थान के नाम से पुकारा जाता था।

गहलोत ने मीडिया से वार्ता के दौरान भाजपा पर निशाना साधा और उन्होंने कहा वह जमाना और था यह जमाना और है वह जमाना सविधान की रक्षा करने का था और अब जो समय आया है वह जमाना संविधान के ऊपर जो चोट की जा रही है उसको बचाने का है यह चिंता का विषय है उन्होंने कहा कि देश के अंदर क्या-क्या शब्द  बोले जा रहे हैं  इसका नमूना दिल्ली चुनाव में देखने को मिला। गहलोत ने उदाहरण देते हुए कहा कि यह नमूना पूरी दुनिया ने देखा एक के बाद एक कोई गोली मार रहा है गद्दारों को,कोई कह रहा है मुख्यमंत्री यूपी के कि यह ऐसे नहीं मानेंगे गोली से मानेंगे क्या-क्या शब्द नहीं बोले गए चुनाव के दौरान सत्ता पक्ष के लोग खुद ही गृह युद्ध पैदा करने का प्रयास कर रहे हैं,ऐसा पहली बार सुना हम लोगों ने और यह दुखद है।

जीरो टॉलरेंस पर मीडिया द्वारा पूछे गए सवाल पर गहलोत ने कहा कि जनता हमारे लिए सर्वोपरि है और उन्होंने ही हमें बड़े पदों पर बैठा है,जो अधिकारी और कर्मचारी जनसुनवाई में कोताही बरतेगा उस पर सरकार की नजर रहेगी। उन्होंने कहा कि सुनवाई करना बहुत आवश्यक है काम किसी का होगा,किसी का नहीं होगा पर सुनवाई नहीं करोगे आप तो कैसे फैसला कर सकते हैं। हमारी कोशिश यह है कि सरकार की जो योजना हैं वह सरकार की योजनाएं ज्यादा से ज्यादा जनता तक पहुंचे।

Comments