माकन की पायलट कैंप के 7 नेताओं से नहीं हुई बात!

राजस्थान में लगभग पिछले डेढ़ माह तक सियासी संकट चला। यह संकट राजभवन और दिल्ली में भी सिर चढ़कर बोल रहा था। कांग्रेस आलाकमान की दखल के बाद राजस्थान के सियासी संकट पर विराम लग गया। कांग्रेस आलाकमान ने इस पूरे संकट की जांच के लिये तीन सदस्यीय कमेटी का गठन किया तो वहीं इस संकट की वजह से राजस्थान कांग्रेस प्रभारी को अपना पद भी गवाना पड़ा और अविनाश पांडे की जगह अजय माकन को राजस्थान कांग्रेस के प्रभारी के रूप में नियुक्त किया।

गौरतलब है कि हाल ही में राजस्थान कांग्रेस के प्रभारी महासचिव अजय माकन ने जयपुर और अजमेर संभाग का दौरा किया और इन नेताओं से एक एक कर पार्टी के कार्यों के बारे में विस्तार से जाना। बताया जा रहा है कि माकन ने इस दौरान करीब 24 पन्नों की रिपोर्ट तैयार की है। माकन के फीडबैक कार्यक्रम को देखकर ऐसा लगता है कि जिस मुद्दे को लेकर यह सारी कसरत शुरू हुई थी वह मुद्दा कहीं ना कहीं गौण होता हुआ नजर आ रहा है।

बता दें कि राजस्थान प्रभारी और महासचिव होने के साथ ही अजय माकन उस तीन सदस्यीय कमेटी के भी सदस्य हैं जो राजस्थान में उपजे पॉलीटिकल क्राइसिस को संभालने के लिए बनी थी। उस तीन सदस्यीय कमेटी में संगठन महामंत्री केसी वेणुगोपाल, कांग्रेस कोषाध्यक्ष अहमद पटेल के साथ ही राजस्थान के प्रभारी अजय माकन भी शामिल हैं।

ऐसे में उम्मीद की जा रही थी कि अजय माकन उन सभी 19 विधायकों से बात करेंगे, जो सरकार से नाराज थे। सूत्रों का कहना है कि पायलट कैंप में शामिल 19 में से 7 नेता ऐसे हैं जिनसे अजय माकन की बात तक नहीं हुई है।

Comments