किसान विरोधी कानून के खिलाफ कांग्रेस का सम्मेलन: CM गहलोत बोले-'ऐसे वक्त में ऐसे कानून लाना अच्छी बात नहीं है'


देवेंद्र शर्मा
जयपुर. 
किसान विरोधी कानून के खिलाफ राजस्थान कांग्रेस ने एआईसीसी के निर्देश पर राज्य स्तरीय किसान सम्मेलन का आयोजन किया. प्रदेश में गहलोत सरकार द्वारा इस सम्मेलन का आयोजन जयपुर के बिड़ला सभागार में हुआ. इस सम्मेलन में राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, एआईसीसी सचिव तरुण कुमार, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा, मंत्री लालचंद कटारिया, किसान नेता ऋद्धकरण चौधरी और कांग्रेस सरकार में मंत्री सहित कई गणमान्य लोगों ने भाग लिया.

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का संबोधन...
किसान विरोधी कानून के खिलाफ आयोजित हुये सम्मेलन को संबोधित करते हुये मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि कोरोना सं​क्रमण को लेकर सरकार ने जो गाइड लाइन जारी कर रखी है उसका पालन करना होगा. उन्होंने कहा कि कई बार देखा गया है कि कार्यक्रमों में लोगों के मुंह पर मास्क तो होता है लेकिन सोशल डिस्टें​सिंग भूल जाते है, इसका भी विशेष ध्यान रखना होगा.

तो वहीं मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने पीएम मोदी पर निशाना साधते हुये कहा कि कोरोना के कारण अब तक 1 लाख से अधिक लोग इस महामारी से मारे जा चुके हैं तो उसके अंदर क्या जरूरत पढ़ गई के तीन काले कानून लाने पड़ गये. केवल समर्थन कि मांग की गई थी. मोदी सरकार को मालूम है कि अभी और कोरोना चलने वाला है. अभी तक कोई अच्छे दिन आये नहीं है. वैक्सीन बनी नहीं है. ऐसे वक्त में ऐसे कानून लाना अच्छी बात नहीं है. सीएम गहलोत ने कहा कि मोदी सरकार बिना राज्य सरकार से पूछे ही कानून बना रही है. कोरोनाकाल के चलते अर्थव्यवस्था ध्वस्त हो गई है. लोगों के पास पैसा नहीं है. लोग तकलीफ में हैं. किसान और व्यापारी भी तकलीफ में हैं. देखा जाये तो सभी तकलीफ में है. प्रदेश सरकार के साथ साथ समाज सेवा करने वालों ने लोगों की खूब मदद करी.

गहलोत ने कहा कि चाइन हमारी सीमा के अंदर घुसपैठ कर रहा है और पीएम कहते हैं कि कोई घुसपैठ नहीं है. तो फिर किस बात की टेंशन है. हालात चुनौतियों के रूप में दूसरे हैं उसी तरफ ध्यान नहीं और किसान विरोधी ये तीन काले कानून का पूरा ध्यान है.

कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा का संबोधन...
सम्मलेन को संबोधित करते हुये राजस्थान कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने मोदी सरकार पर निशाना साधते हुये कहा कि मोदी सरकार कोरोना संकट को खत्म करने के बजाय किसान को खत्म करने पर तुली हुई है और तीन काले कानून जो किसान के खिलाफ लाये गये हैं, उनके विरूद्ध में किसानों के बीच में कांग्रेस जाकर बताएगी. उनके साथ सोनिया गांधी और राहुल गांधी के निर्देशानुसार कांग्रेस के प्रतिनिधियों को खड़ा होना पड़ेगा. यदि किसान का किसी ने भला चाहा है तो वह कांग्रेस पार्टी है.

कृषि मंत्री लालचंद कटारिया का संबोधन...
सम्मलेन को संबोधित करते हुये कृषि मंत्री लालचंद कटारिया ने कहा कि केंद्र की मोदी सरकार ने ये जो तीन काले कानून लागू किये हैं यह किसान के लिये, व्यापारी वर्ग के लिये व इनके साथ जुड़े मजबूत वर्ग के साथ इन सभी के लिये घातक है. देश-प्रदेश के लिये भी घातक है. कटारिया ने कहा कि यह एक बहुत बड़ा षडयंत्र है आने वाले समय में. पर्दे के पीछे पूंजीपति का जो खेल चल रहा है. आजादी के बाद में देश के गरीब को और गरीब और पूंजीपतियों का धनवान बनाने का खेल खेला जा रहा है.

Comments