ऊंट बाहुल्य क्षेत्रों में 27 हजार 105 ऊंटों का किया उपचार


राजस्थान पशुपालन विभाग द्वारा ऊष्ट्र बाहुल्य क्षेत्रों में 24 जुलाई से 28 अगस्त तक प्रत्येक शनिवार को ऊंट बाहुल्य क्षेत्रों में कुल 815 ऊष्ट्र कल्याण शिविर आयोजित कर 27 हजार 105 ऊंटों का उपचार किया गया।

पशुपालन मंत्री लालचन्द कटारिया ने राज्य पशु ऊंट की घटती संख्या पर चिंता जताते हुए कहा कि इस समस्या को दूर करने के लिए समूचे प्रदेश में ऊंट बाहुल्य क्षेत्रों में शिविर आयोजित कर ऊष्ट्र वंश की वृद्वि के लिए प्रयास किये जा रहे है। उन्होंने बताया कि ऊंट बाहुल्य क्षेत्रों में 24 जुलाई से 28 अगस्त तक प्रत्येक शनिवार को चलाये गये इस अभियान के तहत शिविरों का आयोजन किया गया है। 

मंत्री कटारिया ने बताया कि इन शिविरों में 21 हजार 662 ऊंटों में सामान्य चिकित्सा, 4 हजार 992 ऊंटों में सर्रा बीमारी की चिकित्सा एवं 451 ऊंटों में शल्य चिकित्सा सहित कुल 27 हजार 105 ऊंटों का उपचार किया गया। उन्होंने बताया कि इस दौरान गोष्ठियां आयोजित कर 6 हजार159 ऊंटपालकों को भी लाभान्वित किया गया। 

शासन सचिव, पशुपालन विभाग, डॉ. आरूषि मलिक ने बताया कि ऊष्ट्र कल्याण शिविरों में ऊंटों की चिकित्सा एवं स्वास्थ्य परीक्षण के साथ-साथ ऊंटों में पाये जाने वाले तिबरसा (सर्रा) रोग की जांच कर आवश्यक उपचार भी किया गया है। डॉ. मलिक ने बताया कि विभाग द्वारा माह मार्च 2021 में चलाये गये ऊष्ट्र कल्याण अभियान के तहत 340 शिविर आयोजित कर 21 हजार 600 से अधिक ऊंटों का उपचार भी किया गया था।

Comments