Skip to main content

गहलोत सरकार की बड़ी घोषणा : 31 दिसंबर 1971 तक के शहीदों के आश्रितों को नियुक्ति की घोषणा


देवेंद्र शर्मा...

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने देश की सीमाओं की रक्षा करते हुए शहीद हुए प्रदेश के सशस्त्र सेनाओं के अधिकारियों-जवानों के आश्रितों के परिवार के एक सदस्य को नियुक्ति के प्रावधान में 31 दिसंबर 1971 तक के शहीदों के आश्रितों को भी शामिल करने की घोषणा की। साथ ही उन्होंने शहीदों के आश्रितों की श्रेणी में शहीद की पुत्री के पुत्र एवं पुत्री (नवासा-नवासी), दत्तक नवासा-नवासी एवं शहीद के भाई-बहन के पुत्र एवं पुत्री को भी सम्मिलित करने की घोषणा की।

बता दें कि मुख्यमंत्री गहलोत ने गुरूवार को स्वर्णिम विजय दिवस के 50 साल पूरे होने के अवसर पर यहां अमर जवान ज्योति पर आयोजित श्रद्धांजलि कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री गहलोत की इस घोषणा से 1971 के भारत-पाक युद्ध में शहीद हुए सैन्य अधिकारियों-जवानों के आश्रितों को नियुक्ति मिलने का मार्ग प्रशस्त होगा। पूर्व के नियमों में 15 अगस्त 1947 से 31 दिसंबर 1970 तक के राजस्थान के शहीदों के आश्रित परिवार के एक सदस्य को नियुक्ति देने का प्रावधान है। 

हमारी सेनाओं के पराक्रम के आगे पाकिस्तान ने घुटने टेके:—
कार्यक्रम में मुख्यमंत्री गहलोत ने 16 दिसंबर 1971 के दिन को याद किया और कहा कि देश की तत्कालीन प्रधानमंत्री स्व. इंदिरा गांधी की मजबूत इच्छा शक्ति एवं दृढ निश्चय के साथ ही हमारी सशस्त्र सेनाओं के पराक्रम के आगे पाकिस्तानी सेना ने घुटने टेक दिए और बांगलादेश का एक अलग राष्ट्र के रूप में उदय हुआ।

राजस्थान के हर घर में शहादत का जज्बा:—
मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा कि मुझे गर्व है कि में ऎसे प्रदेश का मुख्यमंत्री हूं जहां हर घर में देश की सीमाओं की रक्षा के लिए शहादत का जज्बा है। उन्होंने कहा कि कारगिल युद्ध में शहीद हुए प्रदेश के जवानों के घर जाने का मुझे मौका मिला तो वहां शहीद बेटे की मां एवं पिता में अपने दूसरे बेटे को भी देश की रक्षा के लिए सीमा पर भेजने का जज्बा नजर आया। हमारी सशस्त्र सेनाओं के इस अदम्य साहस एवं पराक्रम पर हम सभी को गर्व है। 

मुल्क को एक और अखण्ड रखना हम सभी की जिम्मेदारी:—
मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा कि अनेकता में एकता वाले इस मुल्क को एक और अखण्ड रखना हम सभी की जिम्मेदारी है। हमारे यहां विभिन्न धर्म, जाति एवं भाषाओं का समावेश है। सभी धर्म दूसरे धर्मों का सम्मान करना एवं सभी के साथ समानता का व्यवहार करना सिखाते हैं। सभी धमोर्ं में प्रेम और भाईचारे की सीख दी गई है। राष्ट्रपिता महात्मा गांधीजी की शिक्षाओं में भी आपसी प्रेम एवं भाईचारे पर जोर दिया गया है।

मुख्यमंत्री गहलोत ने पूर्व प्रधानमंत्री स्व. इंदिरा गांधी एवं स्व. राजीव गांधी को याद करते हुए कहा कि देश को एक एवं अखण्ड रखने के लिए उन्होंने अपनी जान की कुर्बानी दे दी।

शहीदों की वीरांगनाओं का शॉल ओढाकर सम्मान:—
कार्यक्रम में मुख्यमंत्री गहलोत ने 1971 की लड़ाई में शहीद हुए लांस नायक बहादुर सिंह की वीरांगना मिश्री देवी, शहीद रायफलमैन मोहन सिंह की वीरांगना नवल कंवर, शहीद ग्रेनेडियर सरदार सिंह की वीरांगना रूपा देवी, शहीद रायफलमैन रामसिंह के पुत्र नरेन्द्र सिंह, शहीद भारतीय नौसेना के जवान मदन सिंह के पुत्र नरेन्द्र सिंह शेखावत एवं शहीद हुकमाराम के पुत्र बलवीर जितरवाल को शॉल ओढाकर एवं स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया। गहलोत ने सेवानिवृत सैन्य अधिकारियों एवं सैनिकों से भी मुलाकात की। 

इस अवसर पर मंत्री डॉ. बीडी कल्ला, परसादी लाल मीणा, महेन्द्रजीत सिंह मालवीय, प्रताप सिंह खाचरियावास, ममता भूपेश, शकुंतला रावत, टीकाराम जूली, अर्जुनसिंह बामणिया, राजेन्द्र गुढा, पूर्व मंत्री गोविन्द सिंह डोटासरा, विधायक, महापौर एवं अन्य जनप्रतिनिधि तथा मुख्य सचिव निरंजन आर्य एवं पुलिस महानिदेशक एमएल लाठर सहित राज्य सरकार के अधिकारी-कर्मचारी भी उपस्थित रहे।

Comments

Popular posts from this blog

DSP का महिला कांस्टेबल के साथ नहाते हुए का अश्लील वीडियो वायरल, DGP ने किया सस्पेंड, DSP ने वीडियो को बताया फेक

राजस्थान पुलिस की वर्दी को शर्मिंदा करने वाला एक वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है। इस वायरल वीडियो में एक पुलिस अफसर, एक महिला कांस्टेबल के साथ स्वीमिंग पूल में नहाते हुये व अश्लील हरकत करते हुये दिखाई दे रहे हैं। लेकिन हैरानी की बात यह है कि स्वीमिंग पूल में एक बच्चा भी साथ में है। डीएसपी बच्चे के सामने ही महिला के साथ अश्लील हरकत करने में मस्त हैं। वीडियो वायरल होते ही डीजीपी एमएल लाठर ने डीएसपी को सस्पेंड करने के आदेश जारी कर दिए हैं। इस संदर्भ में अजमेर आईजी एस. सेंगाथिर का कहना है कि जांच के बाद डीएसपी को सस्पेंड किया गया है। अभी विभागीय जांच जारी है। तो वहीं डीएसपी हीरालाल सैनी का कहना है कि वे महिला को नहीं जानते हैं। वीडियो पूरी तरह से फेक है। इसे एडिट करके वायरल किया जा रहा है। मामले में महिला कांस्टेबल ने भी शिकायत दर्ज करवाई है। शिकायत में बताया कि कोई उनका फेक वीडियो बनाकर ब्लैकमेल कर रहा है। एनएनएच न्यूज इस वायरल वीडियो की पुष्टि नहीं करता है।

विद्याधर नगर थाना पुलिस की बड़ी कार्रवाई : मोबाइल स्नेचिंग व वाहन चोर गैंग का किया खुलासा...

देवेंद्र शर्मा... राजधानी जयपुर जिले की विद्याधर नगर थाना पुलिस ने शुक्रवार को मोबाइल स्नैचिंग व वाहन चोर गैंग का खुलासा किया है। कार्रवाई के दौरान पुलिस टीम ने तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया है और इनके पास से पांच दुपहिया वाहन व मोबाइल भी बरामद किए हैं। पकड़े गए तीनों आरोपियों का नाम शाहरुख उर्फ मोटा, समीर उर्फ चांद और मोहम्मद इस्तखार है। कार्रवाई को लेकर विद्याधर नगर SHO वीरेंद्र कुरील ने बताया कि पकड़े गए आरोपियों के खिलाफ शहर के विभिन्न थानों में प्रकरण दर्ज है। यह आरोपी नशे की लत को पूरा करने के लिए वारदात को अंजाम देते थे, फिलहाल पकड़े गए गैंग के इन तीनों सदस्यों से गहनता से पूछताछ जारी है। आपको बता दें कि विद्याधर नगर SHO वीरेंद्र कुरील के नेतृत्व में उनकी टीम ने इस कार्रवाई को अंजाम दिया है। उक्त कार्रवाई का खुलासा करने में कांस्टेबल गिरधारी लाल की विशेष भूमिका रही है। तो वहीं आरोपियों को गिरफ्तार करने के लिए बनाई गई विशेष  टीम में स.उ.नि. मुकेश कुमार, मदन सिंह, एचसी कैलाश चंद, कांस्टेबल गिरधारीलाल, मुकेश चंद और दीपक कुमार शामिल थे।

कैदी से इश्क कर बैठीं जज,जेल में लगे CCTV कैमरे में 'किस' करते हुये रोमांस कैद,CCTV फुटेज निकाला तो संबंधित अधिकारी हैरान

जेल के अंदर से कैदियों के तमाम कारनामे सामने आते रहते हैं लेकिन अर्जेंटीना की एक जेल से एक ऐसा नजारा सामने आया है जो कल्पना से बिल्कुल अलग हटकर है। ना ही अभी तक किसी ने ऐसा मामला सुना होगा। जो कि जेल में सीसीटीवी कैमरे में एक ऐसा रोमांस कैद हो गया जिसके बारे सोचकर सब हैरान रह गये। बता दें कि जेल में कैद एक हत्या आरोपी कैदी से वहां की जज इश्क फरमाती नजर आईं। इतना ही नहीं उनका एक वीडियो भी वायरल हुआ जिसमें वे कैदी को किस करती नजर आ रही हैं। दरअसल, यह पूरा मामला अर्जेंटीना के दक्षिणी प्रांत स्थित एक जेल का है। डेली मेल की एक ऑनलाइन रिपोर्ट के मुताबिक यहां एक हत्या के केस में क्रिस्टियन बस्टोस अपराधी दोषी साबित हो चुके हैं। उसने अपने साथी की गोली मारकर हत्या कर दी थी। वह कैदी अभी सजा काट रहा है उसे उम्रकैद की सजा सुनाई गई है। इस दौरान मारियल सुआरेज नाम की जज जेल में कैदी से मिलने जाया करती थीं। उन्होंने बताया कि केस की स्टडी के लिए वे उससे मिलने जाती थीं। और इसी बीच जज मारियल सुआरेज को बीते 29 दिसंबर को जेल में उसी कैदी को किस करते हुए देखा गया। सत्यता के लिए सीसीटीवी फुटेज निकाला गया तो स