Skip to main content

गहलोत सरकार के कुशासन में पुलिस तंत्र 'रक्षक' की बजाय 'भक्षक' की भूमिका में है- उपनेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र राठौड़


राजस्थान विधानसभा में उपनेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र राठौड़ ने सोमवार को जोधपुर में बाड़मेर जिले में भ्रष्टाचार की शिकायत करने पर बेखौफ बदमाशों के जानलेवा हमले का शिकार हुए व्हिसल ब्लोअर (RTI कार्यकर्ता) अमराराम गोदारा एवं उसके परिजनों से अस्पताल में मुलाकात कर कुशलक्षेम पूछी तथा गहलोत सरकार से हमले के दोषी मुख्य अपराधियों को शीघ्र गिरफ्तार करने व व्हिसल ब्लोअर, RTI व सामाजिक कार्यकर्ताओं को सुरक्षा मुहैया करने के लिए त्वरित कदम उठाने की मांग की।

राठौड़ ने कहा कि 21 दिसंबर को बाड़मेर जिले में भष्टाचार व अवैध शराब बेचने की शिकायत करने पर बेखौफ बदमाशों ने अमराराम के साथ मानवीयता की सारी हदें पार करते हुए निर्ममतापूर्वक मारपीट की, पैरों में लोहे की कीलें ठोकी और फरार हो गए। दुर्भाग्य है कि 6 दिन बाद भी आज मुख्य साजिशकर्ता फरार है और पुलिस प्रशासन मुख्य आरोपियों को गिरफ्तार करने की बजाय अन्य को गिरफ्तार करके खुद की पीठ थपथपा रही है और मामले को रफा-दफा करने में लगी हुई है।

राठौड़ ने कहा कि पुलिस व अपराधी के गठजोड़ के कारण व्हिसल ब्लोअर, आरटीआई कार्यकर्ता व सरकार के काले कारनामों का खुलासा करने वाले कोई भी व्यक्ति सुरक्षित नहीं है। राजस्थान में सूचना का अधिकार अधिनियम को प्रभावी बनाने के लिए,जनहित में सूचनाएं मांगने के लिए काम कर रहे RTI कार्यकर्ता पर अत्याचार का यह पहला मामला नहीं है। इससे पूर्व वर्ष 2019 में बाड़मेर में ही पुलिस कस्टडी में आरटीआई कार्यकर्ता जगदीश गोलिया की मौत हुई थी। उस समय भी दोषी पुलिस अधिकारियों पर धारा 302 के तहत मुकदमा दर्ज करने नहीं किया गया था और मामले को दबाने की कोशिश की गई थी।

राठौड़ ने कहा कि कांग्रेस सरकार का जन घोषणा पत्र के पृष्ठ संख्या 36 के बिन्दु संख्या 28 में Zero Discretion, Zero Corruption & Zero Harassment के सिद्धांत पर कार्य करने का वादा धूलदर्शित साबित हो रहा है। वास्तविकता यह है कि भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज उठाने की सजा RTI कार्यकर्ताओं को जान देकर चुकानी पड़ रही है वहीं मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने ऐसी विभत्स घटना पर छोटा मन रखते हुए महज 2 लाख रुपये देने की घोषणा की जो नाकाफी व अपर्याप्त है।

राठौड़ ने कहा कि गहलोत सरकार के कुशासन में पुलिस तंत्र 'रक्षक' की बजाय 'भक्षक' की भूमिका में है। अगर पुलिस हिरासत में किसी व्यक्ति के साथ क्रूरतापूर्ण मारपीट करने या यातनाएं देने से व्यक्ति की मौत होती है तो ऐसे मामले खाकी के लिए तो शर्मसार है ही वरन् सभ्य समाज में स्वीकार्य नहीं है। हाल ही में लोहावट (जोधपुर) में राजू नायक की मौत के मामले में पुलिस प्रशासन की संदेहास्पद भूमिका सामने आ रही है वहीं उदयपुर में महिला को चौकी में रखकर दुष्कर्म का प्रयास व ज्यादती की घटना, खाकी को दागदार करने वाली है।

राठौड़ ने कहा कि गहलोत सरकार के शासन में लचर कानून व्यवस्था की वजह से पुलिस अधिकारियों/कर्मचारियों पर हमले की वारदातें भी लगातार बढ़ रही है। भीलवाड़ा, करौली, धौलपुर, जयपुर, भरतपुर में पुलिस प्रशासन पर बजरी माफियाओं व बदमाशों द्वारा लगातार हमले किये जाने से पुलिस प्रशासन अपराधियों के समक्ष बौना साबित हो रहा है।

Comments

Popular posts from this blog

DSP का महिला कांस्टेबल के साथ नहाते हुए का अश्लील वीडियो वायरल, DGP ने किया सस्पेंड, DSP ने वीडियो को बताया फेक

राजस्थान पुलिस की वर्दी को शर्मिंदा करने वाला एक वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है। इस वायरल वीडियो में एक पुलिस अफसर, एक महिला कांस्टेबल के साथ स्वीमिंग पूल में नहाते हुये व अश्लील हरकत करते हुये दिखाई दे रहे हैं। लेकिन हैरानी की बात यह है कि स्वीमिंग पूल में एक बच्चा भी साथ में है। डीएसपी बच्चे के सामने ही महिला के साथ अश्लील हरकत करने में मस्त हैं। वीडियो वायरल होते ही डीजीपी एमएल लाठर ने डीएसपी को सस्पेंड करने के आदेश जारी कर दिए हैं। इस संदर्भ में अजमेर आईजी एस. सेंगाथिर का कहना है कि जांच के बाद डीएसपी को सस्पेंड किया गया है। अभी विभागीय जांच जारी है। तो वहीं डीएसपी हीरालाल सैनी का कहना है कि वे महिला को नहीं जानते हैं। वीडियो पूरी तरह से फेक है। इसे एडिट करके वायरल किया जा रहा है। मामले में महिला कांस्टेबल ने भी शिकायत दर्ज करवाई है। शिकायत में बताया कि कोई उनका फेक वीडियो बनाकर ब्लैकमेल कर रहा है। एनएनएच न्यूज इस वायरल वीडियो की पुष्टि नहीं करता है।

विद्याधर नगर थाना पुलिस की बड़ी कार्रवाई : मोबाइल स्नेचिंग व वाहन चोर गैंग का किया खुलासा...

देवेंद्र शर्मा... राजधानी जयपुर जिले की विद्याधर नगर थाना पुलिस ने शुक्रवार को मोबाइल स्नैचिंग व वाहन चोर गैंग का खुलासा किया है। कार्रवाई के दौरान पुलिस टीम ने तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया है और इनके पास से पांच दुपहिया वाहन व मोबाइल भी बरामद किए हैं। पकड़े गए तीनों आरोपियों का नाम शाहरुख उर्फ मोटा, समीर उर्फ चांद और मोहम्मद इस्तखार है। कार्रवाई को लेकर विद्याधर नगर SHO वीरेंद्र कुरील ने बताया कि पकड़े गए आरोपियों के खिलाफ शहर के विभिन्न थानों में प्रकरण दर्ज है। यह आरोपी नशे की लत को पूरा करने के लिए वारदात को अंजाम देते थे, फिलहाल पकड़े गए गैंग के इन तीनों सदस्यों से गहनता से पूछताछ जारी है। आपको बता दें कि विद्याधर नगर SHO वीरेंद्र कुरील के नेतृत्व में उनकी टीम ने इस कार्रवाई को अंजाम दिया है। उक्त कार्रवाई का खुलासा करने में कांस्टेबल गिरधारी लाल की विशेष भूमिका रही है। तो वहीं आरोपियों को गिरफ्तार करने के लिए बनाई गई विशेष  टीम में स.उ.नि. मुकेश कुमार, मदन सिंह, एचसी कैलाश चंद, कांस्टेबल गिरधारीलाल, मुकेश चंद और दीपक कुमार शामिल थे।

कैदी से इश्क कर बैठीं जज,जेल में लगे CCTV कैमरे में 'किस' करते हुये रोमांस कैद,CCTV फुटेज निकाला तो संबंधित अधिकारी हैरान

जेल के अंदर से कैदियों के तमाम कारनामे सामने आते रहते हैं लेकिन अर्जेंटीना की एक जेल से एक ऐसा नजारा सामने आया है जो कल्पना से बिल्कुल अलग हटकर है। ना ही अभी तक किसी ने ऐसा मामला सुना होगा। जो कि जेल में सीसीटीवी कैमरे में एक ऐसा रोमांस कैद हो गया जिसके बारे सोचकर सब हैरान रह गये। बता दें कि जेल में कैद एक हत्या आरोपी कैदी से वहां की जज इश्क फरमाती नजर आईं। इतना ही नहीं उनका एक वीडियो भी वायरल हुआ जिसमें वे कैदी को किस करती नजर आ रही हैं। दरअसल, यह पूरा मामला अर्जेंटीना के दक्षिणी प्रांत स्थित एक जेल का है। डेली मेल की एक ऑनलाइन रिपोर्ट के मुताबिक यहां एक हत्या के केस में क्रिस्टियन बस्टोस अपराधी दोषी साबित हो चुके हैं। उसने अपने साथी की गोली मारकर हत्या कर दी थी। वह कैदी अभी सजा काट रहा है उसे उम्रकैद की सजा सुनाई गई है। इस दौरान मारियल सुआरेज नाम की जज जेल में कैदी से मिलने जाया करती थीं। उन्होंने बताया कि केस की स्टडी के लिए वे उससे मिलने जाती थीं। और इसी बीच जज मारियल सुआरेज को बीते 29 दिसंबर को जेल में उसी कैदी को किस करते हुए देखा गया। सत्यता के लिए सीसीटीवी फुटेज निकाला गया तो स