Skip to main content

राजेन्द्र राठौड़ ने कहा-"बालिकाओं के साथ दुर्व्यव्हार के लिए जिला कलेक्टर को तत्काल प्रभाव से निलंबित किया जाना चाहिए, अलवर गैंगरेप मामले की जांच CBI को सौंपी जानी चाहिए"

राजस्थान विधानसभा में उपनेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र राठौड़ ने वक्तव्य जारी कर कहा कि राजस्थान पुलिस के लिए शर्मसार होने वाली बात है कि अलवर में मूक-बधिर नाबालिग बालिका के साथ गैंगरेप के 3 दिन बाद भी दोषी पुलिस की गिरफ्त से दूर है और आजाद घूम रहे हैं। आज 3 दिन बाद भी पुलिस प्रशासन दरिंदों को पकड़ना तो दूर बल्कि उन्हें जुड़े अहम सुराग तक नहीं खोज पाई है।

राठौड़ ने कहा कि राजस्थान पुलिस मूक बधिर बालिका के साथ हुए जघन्य अपराध के मामले के रहस्य से पर्दा उठाने में विफल रही है कि आखिरकार इसके पीछे अपराधी कौन है ? गहलोत सरकार के शासन में देशभर में राजस्थान पुलिस नाकाम होने के लिए कुख्यात हो रही है। हैरानी की बात है कि जिस पुलिस प्रशासन को निर्भया जैसी हैवानियत वाले इस मामले में दोषियों को पकड़ने के लिए गंभीरता दिखानी चाहिए थी लेकिन ऐसा नहीं होकर पूरा पुलिस व अन्य प्रशासनिक अमला कांग्रेस नेता श्रीमती प्रियंका गांधी के रणथंभौर दौरे को ऐतिहासिक बनाने व उसमें किसी प्रकार का खलल ना पड़े, इसमें ही जुटा रहा।

राठौड़ ने कहा कि एनसीआरबी के आंकडे चीख-चीख कर बयां कर रहे हैं कि राजस्थान पिछले 2 वर्षों से दुष्कर्म के मामलों में देशभर में पहले स्थान पर है और प्रदेश में प्रतिदिन 15 अबलाओं की इज्जत लूटी जा रही है। राजस्थान में रोजाना निर्भया कांड हो रहा है और पीड़िता न्याय नहीं मिलने की वजह से आत्महत्या करने को मजबूर है। राजस्थान पुलिस के डीजीपी स्वयं स्वीकार कर रहे हैं कि महिलाओं के खिलाफ अपराध में 17 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है।

राठौड़ ने कहा कि अलवर में जिला कलेक्टर द्वारा मूक-बधिर नाबालिग बालिका के साथ हुए गैंगरेप के मामले में ज्ञापन देने आयी छात्राओं के साथ जिस प्रकार का आचरण किया गया है वो अत्यन्त दुर्भाग्यपूर्ण एवं अशोभनीय है। बालिकाओं के साथ दुर्व्यव्हार के लिए जिला कलेक्टर को तत्काल प्रभाव से निलंबित किया जाना चाहिए और अलवर गैंगरेप मामले की जांच सीबीआई को सौंपी जानी चाहिए।

राठौड़ ने कहा कि भारतीय संविधान में प्रत्येक नागरिक का मौलिक अधिकार है कि वह स्वतंत्रतापूर्वक अपने हक की बात कह सके लेकिन छात्राओं की मांगों को संवेदनशीलता के साथ सुनने की बजाय बच्चियों को धमकाया गया ताकि वह अन्याय के खिलाफ आवाज नहीं उठा सके। जिले के सबसे बड़े जिम्मेदार अधिकारी से ऐसे व्यवहार की आशा कभी नहीं की जा सकती है।

राठौड़ ने कहा कि राज्य सरकार अलवर गैंगरेप के मामले में कुछ छिपाने का प्रयास कर रही है ताकि सच्चाई सबके सामने नहीं आ सके। दाल में कुछ काला अवश्य है। गहलोत सरकार के जंगलराज में बालिकाएं स्वयं को असुरक्षित महसूस कर रही है और घर से बाहर निकलने में भी घबरा रही है। अलवर में हुई निर्भया जैसी हैवानियत के खिलाफ कोई सरकार के खिलाफ आवाज ना उठाये इसलिए शासन में बैठे उच्च पदस्थ अधिकारियों द्वारा सत्ता के इशारे पर बालिकाओं की मांगों को गंभीरता से नहीं लेकर उल्टे उन्हें ही धमकाया जा रहा है।

Comments

Popular posts from this blog

DSP का महिला कांस्टेबल के साथ नहाते हुए का अश्लील वीडियो वायरल, DGP ने किया सस्पेंड, DSP ने वीडियो को बताया फेक

राजस्थान पुलिस की वर्दी को शर्मिंदा करने वाला एक वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है। इस वायरल वीडियो में एक पुलिस अफसर, एक महिला कांस्टेबल के साथ स्वीमिंग पूल में नहाते हुये व अश्लील हरकत करते हुये दिखाई दे रहे हैं। लेकिन हैरानी की बात यह है कि स्वीमिंग पूल में एक बच्चा भी साथ में है। डीएसपी बच्चे के सामने ही महिला के साथ अश्लील हरकत करने में मस्त हैं। वीडियो वायरल होते ही डीजीपी एमएल लाठर ने डीएसपी को सस्पेंड करने के आदेश जारी कर दिए हैं। इस संदर्भ में अजमेर आईजी एस. सेंगाथिर का कहना है कि जांच के बाद डीएसपी को सस्पेंड किया गया है। अभी विभागीय जांच जारी है। तो वहीं डीएसपी हीरालाल सैनी का कहना है कि वे महिला को नहीं जानते हैं। वीडियो पूरी तरह से फेक है। इसे एडिट करके वायरल किया जा रहा है। मामले में महिला कांस्टेबल ने भी शिकायत दर्ज करवाई है। शिकायत में बताया कि कोई उनका फेक वीडियो बनाकर ब्लैकमेल कर रहा है। एनएनएच न्यूज इस वायरल वीडियो की पुष्टि नहीं करता है।

विद्याधर नगर थाना पुलिस की बड़ी कार्रवाई : मोबाइल स्नेचिंग व वाहन चोर गैंग का किया खुलासा...

देवेंद्र शर्मा... राजधानी जयपुर जिले की विद्याधर नगर थाना पुलिस ने शुक्रवार को मोबाइल स्नैचिंग व वाहन चोर गैंग का खुलासा किया है। कार्रवाई के दौरान पुलिस टीम ने तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया है और इनके पास से पांच दुपहिया वाहन व मोबाइल भी बरामद किए हैं। पकड़े गए तीनों आरोपियों का नाम शाहरुख उर्फ मोटा, समीर उर्फ चांद और मोहम्मद इस्तखार है। कार्रवाई को लेकर विद्याधर नगर SHO वीरेंद्र कुरील ने बताया कि पकड़े गए आरोपियों के खिलाफ शहर के विभिन्न थानों में प्रकरण दर्ज है। यह आरोपी नशे की लत को पूरा करने के लिए वारदात को अंजाम देते थे, फिलहाल पकड़े गए गैंग के इन तीनों सदस्यों से गहनता से पूछताछ जारी है। आपको बता दें कि विद्याधर नगर SHO वीरेंद्र कुरील के नेतृत्व में उनकी टीम ने इस कार्रवाई को अंजाम दिया है। उक्त कार्रवाई का खुलासा करने में कांस्टेबल गिरधारी लाल की विशेष भूमिका रही है। तो वहीं आरोपियों को गिरफ्तार करने के लिए बनाई गई विशेष  टीम में स.उ.नि. मुकेश कुमार, मदन सिंह, एचसी कैलाश चंद, कांस्टेबल गिरधारीलाल, मुकेश चंद और दीपक कुमार शामिल थे।

कैदी से इश्क कर बैठीं जज,जेल में लगे CCTV कैमरे में 'किस' करते हुये रोमांस कैद,CCTV फुटेज निकाला तो संबंधित अधिकारी हैरान

जेल के अंदर से कैदियों के तमाम कारनामे सामने आते रहते हैं लेकिन अर्जेंटीना की एक जेल से एक ऐसा नजारा सामने आया है जो कल्पना से बिल्कुल अलग हटकर है। ना ही अभी तक किसी ने ऐसा मामला सुना होगा। जो कि जेल में सीसीटीवी कैमरे में एक ऐसा रोमांस कैद हो गया जिसके बारे सोचकर सब हैरान रह गये। बता दें कि जेल में कैद एक हत्या आरोपी कैदी से वहां की जज इश्क फरमाती नजर आईं। इतना ही नहीं उनका एक वीडियो भी वायरल हुआ जिसमें वे कैदी को किस करती नजर आ रही हैं। दरअसल, यह पूरा मामला अर्जेंटीना के दक्षिणी प्रांत स्थित एक जेल का है। डेली मेल की एक ऑनलाइन रिपोर्ट के मुताबिक यहां एक हत्या के केस में क्रिस्टियन बस्टोस अपराधी दोषी साबित हो चुके हैं। उसने अपने साथी की गोली मारकर हत्या कर दी थी। वह कैदी अभी सजा काट रहा है उसे उम्रकैद की सजा सुनाई गई है। इस दौरान मारियल सुआरेज नाम की जज जेल में कैदी से मिलने जाया करती थीं। उन्होंने बताया कि केस की स्टडी के लिए वे उससे मिलने जाती थीं। और इसी बीच जज मारियल सुआरेज को बीते 29 दिसंबर को जेल में उसी कैदी को किस करते हुए देखा गया। सत्यता के लिए सीसीटीवी फुटेज निकाला गया तो स