Skip to main content

जवाबदेही धरने का 19वें दिन समापन: रिटायर्ड जस्टिस मदन लोकुर ने बोले-"जवाबदेही कानून राजस्थान ही नहीं पूरे देश के लिए आवश्यक,इसे तुरंत किया जाए पास"

जयपुर। सूचना एवं रोजगार अधिकार अभियान राजस्थान द्वारा जवाबदेही कानून की मांग को लेकर जयपुर के शहीद स्मारक पुलिस आयुक्त कार्यालय के सामने चल रहे जवाबदेही धरने के 19वें दिन आज अवैध खनन, विस्थापन, शामलात से संबंधित आदि मुद्दों पर जन सुनवाई हुई तथा उसके बाद दोपहर में एक पैनल के सामने जिसमें सुप्रीम कोर्ट के रिटायर्ड जस्टिस मदन बी लोकुर, एमनेस्टी इंटरनेशनल के प्रमुख सलिल शेट्टी, पूर्व आईएएस अधिकारी राजेंद्र भाणावत तथा प्रसिद्ध सामाजिक कार्यकर्ता एवं मजदूर किसान शक्ति संगठन की संस्थापक अरुणा रॉय ने पैनलिस्ट के तौर पर भाग लिया।

अवैध खनन विरोधी समिति से जुड़े राधेश्याम शुक्लवास ने कहा कि अवैध खनन की वजह से लोगों का जीना दूभर हो गया है। उन्होंने यह भी बताया कि नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल ने एक अच्छा आदेश पारित किया है जिसकी वजह से कुछ 15 अवैध खनन की खानें बंद हुई हैं। संघर्ष और भी और वह जारी रहेगा।

शामलात के बारे में सुरेश जी ने कहा कि आज सब जगह शामलात पर अतिक्रमण किया जा रहा है, शामलात संसाधनों को संरक्षित करने की आवश्यकता है, उन्हें हर हालात में बचाया जाना चाहिए।

बारां जिले से आए मुरारीलाल और उनके साथियों ने बताया कि हमारे यहां पर बांध बनाया जा रहा है जिससे 305 परिवारों को विस्थापित किया जा रहा है और उन्हें 30 किमी दूर जगह दी जा रही है। उन्हें पास में जगह दी जाए और मुआवजा दिया जाए। कैलाश मीणा और अन्य ने भी संबोधित किया। 

बता दें कि इस पैनल के सामने पिछले 18 दिनों में विभिन्न मुद्दों पर हुई जनसुनवाई और उनमें से एक एक व्यक्ति ने मुद्दे प्रस्तुत किए जिनमें प्रमुख तौर पर सिलिकोसिस भवन एवं संनिर्माण कल्याण मंडल, बीओसीडब्ल्यू से संबंधित मामले, महात्मा गांधी नरेगा, मानवाधिकार से जुड़े मुद्दे, विसलब्लोअर से जुड़े मुद्दे तथा खाद्य सुरक्षा एवं कच्ची बस्तियों में रहने वाले घुमंतुओं के मुद्दे तथा सामाजिक सुरक्षा पेंशन, पालनहार आदि से संबंधित मुद्दों के साथ-साथ खनन, विस्थापन और शामलात के मुद्दे सामने रखे गए।

रिटायर्ड जस्टिस लोकुर ने कहा कि अक्सर जब लोगों के हकों का उल्लंघन होता है तो वे अदालत का रुख़ करते हैं लेकिन देश के विभिन्न भागों और दूरदराज़ के गांवों, कस्बों के लोगों के लिए यह आसान नहीं होता। उन्होंने कहा कि यह जवाबदेही कानून जनता के नज़दीक के प्रशासनिक ढांचे को उनके प्रति जवाबदेह बनाएगा और इस कानून की सबसे बड़ी खासियत यही है कि यह प्रशासन के सबसे निचले स्तर पर आ रही समस्याओं का निवारण कर लोगों को फ़ायदा पहुंचाएगा। उन्होंने कहा कि यह कानून किसी एक व्यक्ति या इलाके की नहीं बल्कि पूरे देश के करोड़ों लोगों को लाभ पहुंचाने की ताक़त रखता है। और समय बद्ध शिकायत निवारण की प्रक्रिया इसकी एक अहम शक्ति है। उन्होंने कहा कि यह कानून केवल राजस्थान राज्य की जरूरत नहीं है पूरे देश की जरूरत है इसे तुरंत पास किया जाना चाहिए।

सामाजिक कार्यकर्ता, मजदूर किसान शक्ति संगठन की संस्थापक सदस्य एवं सूचना के अधिकार आंदोलन में प्रमुख भूमिका निभाने वालों में से एक अरुणा रॉय ने हर्ष जताया कि जस्टिस लोकुर आज इस जवाबदेही के आंदोलन को अपना समर्थन देने यहां आए हैं। उन्होंने कहा कि सूचना के अधिकार का पहला मसौदा बनाने वालों में जस्टिस पी बी सावंत की अहम भूमिका रही। इसी तरह जस्टिस राजिंदर सच्चर और जस्टिस ए पी शाह ने भी हमारे जनांदोलनों को समय-समय पर अपना समर्थन दिया है और हमें पूरी उम्मीद है कि जस्टिस लोकुर का यह समर्थन इस अभियान को ताक़त देगा। उन्होंने कहा कि पहले भी हमने जवाब देही यात्रा की और जवाबदेही कानून के लिए विभिन्न प्रकार से संघर्ष करते आ रहे हैं आगे भी जवाबदेही कानून पारित नहीं होने तक हमारा संघर्ष जारी रहेगा।

पूर्व आईएएस अधिकारी राजेंद्र भाणावत ने कहा कि वर्तमान सरकारी ढांचे में कार्मिक यदि लापरवाही करते हैं तो जवाबदेही की कोई उचित व्यवस्था नहीं है जिससे कि उन्हें जवाबदेह बनाया जा सके उन्होंने कहा कि यदि जवाबदेही कानून आता है तो इससे दलाली और भ्रष्टाचार पर लगाम लगेगी।

एमनेस्टी इंटरनेशनल के पूर्व प्रमुख एवं मानवाधिकार कार्यकर्ता सलिल शेट्टी ने कहा कि सरकारों की हाशिए के समुदायों की तरफ़ अक्सर कोई जवाबदेही नहीं होती। लेकिन उन्होंने भरोसा जताया कि जवाबदेही के इस अहम कानून को कोई ताक़त नहीं रोक सकती और यह ज़रूर अस्तित्व में आएगा।

जवाबदेही आंदोलन में प्रमुख भूमिका निभा रहे सामाजिक कार्यकर्ता निखिल डे ने कहा कि आज धरने का समापन हो रहा है लेकिन हमारा आंदोलन जारी रहेगा उन्होंने प्रेस वार्ता में घोषणा की कि होली के बाद जितनी शिकायतें हमें प्राप्त हुई हैं उन सब शिकायतों का पीछा करते हुए एक एक शिकायत पर सरकार से जवाब देही ली जाएगी और उसे उच्चतम स्तर तक ले जाया जाएगा तथा होली के बाद हमारी क्षेत्रीय यात्राएं शुरू होंगी और क्षेत्रीय यात्राओं के बाद अगले चरण में हम जवाब देही यात्रा वापस 21 जिलों में शुरू करेंगे।

Comments

Popular posts from this blog

DSP का महिला कांस्टेबल के साथ नहाते हुए का अश्लील वीडियो वायरल, DGP ने किया सस्पेंड, DSP ने वीडियो को बताया फेक

देवेंद्र शर्मा... राजस्थान पुलिस की वर्दी को शर्मिंदा करने वाला एक वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है। इस वायरल वीडियो में एक पुलिस अफसर, एक महिला कांस्टेबल के साथ स्वीमिंग पूल में नहाते हुये व अश्लील हरकत करते हुये दिखाई दे रहे हैं। लेकिन हैरानी की बात यह है कि स्वीमिंग पूल में एक बच्चा भी साथ में है। डीएसपी बच्चे के सामने ही महिला के साथ अश्लील हरकत करने में मस्त हैं। वीडियो वायरल होते ही डीजीपी एमएल लाठर ने डीएसपी को सस्पेंड करने के आदेश जारी कर दिए हैं। इस संदर्भ में अजमेर आईजी एस. सेंगाथिर का कहना है कि जांच के बाद डीएसपी को सस्पेंड किया गया है। अभी विभागीय जांच जारी है। तो वहीं डीएसपी हीरालाल सैनी का कहना है कि वे महिला को नहीं जानते हैं। वीडियो पूरी तरह से फेक है। इसे एडिट करके वायरल किया जा रहा है। मामले में महिला कांस्टेबल ने भी शिकायत दर्ज करवाई है। शिकायत में बताया कि कोई उनका फेक वीडियो बनाकर ब्लैकमेल कर रहा है। एनएनएच न्यूज इस वायरल वीडियो की पुष्टि नहीं करता है।

RAA की प्रदेश स्तरीय बैठक हुई आयोजित, 5 सूत्रीय मांग पत्र को सरकार से मनवाने के लिए संयोजक नियुक्त

देवेंद्र शर्मा... जयपुर। राजस्थान एकाउन्टेन्ट्स एसोसिएशन की प्रदेश स्तरीय बैठक में संगठन के 5 सूत्रीय मांग पत्र को सरकार से मनवाने के लिए प्रदेश स्तरीय संघर्ष समिति का संयोजक बीकानेर के श्रीलाल भाटी को बनाया गया है। संघर्ष समिति संयोजक श्रीलाल भाटी ने विभिन्न जिला शाखाओं को प्रतिनिधित्व देते हुए प्रदेश स्तरीय संघर्ष समिति की घोषणा की है। जिसमें संजय जैन, जयपुर को सचिव एवं 07 उप संयोजक 09 सह संयोजक 01 उपसचिव, वित्त प्रभारी शधनेश सेठी, मीडिया प्रभारी विकास अग्रवाल सहित 14 सदस्यों का मनोनयन किया गया है। साथ ही संघर्ष समिति संयोजक भाटी के संगठन की 05 सूत्रीय मांगों की पूर्ति हेतु सरकार की उदासीनता को देखते हुए आंदोलन के प्रथम चरण की घोषणा की गई है। इसी क्रम में आज प्रदेश सचिव संजय जैन के नेतृत्व में शिष्ट मण्डल निदेशक कोष एवं लेखा विभाग, जयपुर से मिला तथा संगठन की मांगो पर शीघ्र कार्यवाही हेतु निवेदन किया। इस दौरान मीडिया प्रभारी विकास अग्रवाल ने बताया कि शीघ्र ही चरण बद्ध आंदोलन प्रारम्भ किया जायेगा, जिसमें  मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को मागों की पूर्ति के संबंध में ट्वीट करना सरक

रामगंज थाना इलाके का हिस्ट्रीशीटर मुन्ना तलवार की हुई मौत...

देवेंद्र शर्मा... जयपुर के रामगंज थाना इलाके का हिस्ट्रीशीटर मुन्ना तलवार की रविवार को मौत हो गई. बता दें कि कुख्यात अपराधी मुन्ना तलवार को कुछ दिन पूर्व भी कोरोना संक्रमण के चलते जयपुर के आरयूएचस अस्पताल में भर्ती करवाया था. जहां उपचार के दौरान मुन्ना तलवार की मौत हो गई है. गौरतलब है कि रामगंज इलाके के हिस्ट्रीशीटर मुन्ना तलवार पर कई आपराधिक मामले जयपुर के विभिन्न थानों में दर्ज है. जिनमें फायरिंग के लगभग 1 दर्जन से ज्यादा मामले दर्ज है. बता दें कि हाल ही में जयपुर की सदर थाना पुलिस ने हिस्ट्रीशीटर मुन्ना तलवार को एक मामले में गिरफ्तार किया था. मिली जानकारी के अनुसार हिस्ट्रीशीटर मुन्ना तलवार को राजपासा एक्ट के तहत गिरफ्तार किया गया था. तो वहीं पुलिस प्रशासन ने मुन्ना तलवार की गैंग पर नकेल कसते हुये इस गैंग के अन्य सदस्यों को भी राजपासा एक्ट के तहत गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया. जयपुर सेंट्रल जेल में सजा काटने के दौरान हिस्ट्रीशीटर मुन्ना तलवार की कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई और तत्काल पुलिस ने हिस्ट्रीशीटर मुन्ना को आरयूएचएस अस्पताल में भर्ती करवाया गया, जहां पर उपचार के दौरान रविवा